G20 के विदेश मंत्रियों की, अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को मजबूत करने वाली सीमाओं पर, असाधारण बैठक (आभासी)

G20 के विदेश मंत्रियों की असाधारण बैठक 3 सितंबर, 2020 को सऊदी अरब के किंगडम द्वारा वर्तमान G20 अध्यक्ष द्वारा बुलाई गई थी। सऊदी अरब के विदेश मामलों के मंत्री, महामहिम प्रिंस फैसल बिन फरहान अल-सऊद ने बैठक की अध्यक्षता की। भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने भारत का प्रतिनिधित्व किया।

यह आभासी बैठक COVID-19 महामारी संकट की पृष्ठभूमि में बुलाई गई थी। COVID-19 संकट के मद्देनजर सीमाओं पर अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को मजबूत करने पर केंद्रित चर्चा। मंत्रियों ने COVID-19 महामारी के जवाब में सीमा पार प्रबंधन उपायों से सीखे गए राष्ट्रीय अनुभवों और सबक का भी आदान-प्रदान किया।

याद रखने योग्य महत्वपूर्ण नोट्स एवं अन्य लेटेस्ट करंट अफेयर्स या प्रश्न।

G20 क्या है?

यह एक 19 देशों और यूरोपीय संघ (ईयू) की सरकारों और केंद्रीय बैंक के गवर्नरों के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय मंच है। यह वर्ष 1999 में गठित हुआ था। जैसा की नाम से पता चलता है की यह “बीस का समूह” या ग्रुप ऑफ़ ट्वेंटी है।

G20 क्यों बनाया गया?

वैश्विक अर्थव्यवस्था में प्रमुख मुद्दों पर चर्चा करने के लिए व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण औद्योगिक और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं को एक साथ लाएं।

इस ग्रुप में 20 मेंबर्स होते है जिसमे 19 देश एवं एक यूरोपीय संघ (ईयू) है।

अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, यूरोपीय संघ, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, तुर्की, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका।

यह भी पढ़ें।

  1. वित्त मंत्री Nirmala Sitharaman ने 3rd G20 FMCBG मीटिंग में भाग लिया
हम जल्द ही यूट्यूब पर नया कंटेंट लाने वाले हैं जिसके लिए हमे यूट्यूब पर सब्सक्राइब करें। यहाँ क्लिक करके ज्वाइन करें।

क्या आपके पास एक सवाल है जिसका जवाब आपको अभी तक नहीं मिला है? यदि हाँ, तो अपना प्रश्न लिखें और सबमिट बटन पर क्लिक करें।

Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Post Type Selectors
Search in posts
Search in pages

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *